Loan against Mutual Funds | म्यूचुअल फंड में भी मिलता है लोन, समझें आसान प्रक्रिया

Loan against Mutual Funds

Loan against Mutual Funds |  अगर आपको किसी समस्या के कारण अचानक पैसे की जरूरत है और आपके पास म्यूचुअल फंड है तो आपको चिंता करने की ज़रूरत नहीं है। आप अपने म्यूचुअल फंड को बेचकर भी पैसा कमा सकते हैं। इसके लिए आपको इन म्यूचुअल फंड पर किसी भी बैंक या एनबीएफसी से लोन मिल जाएगा। आप म्यूचुअल फंड पर ऑनलाइन या ऑफलाइन दोनों तरह से आसानी से लोन ले सकते हैं। म्यूचुअल फंड इकाइयों पर ऋण ओवरड्राफ्ट सुविधा के रूप में उपलब्ध कराया जा सकता है। जमा की गई राशि पर ही ब्याज लिया जाता है। ऋण राशि इकाई के बाजार मूल्य से कम है। इसे मार्जिन कहा जाता है। आम तौर पर इक्विटी फंड पर मार्जिन म्यूचुअल फंड इकाइयों के मूल्य का 50-60 प्रतिशत होता है। डेट फंड के मामले में यह एनएवी का 75-80 फीसदी तक है।

इस तरह म्यूचुअल फंड को मिलेगा लोन 
* म्यूचुअल फंड इकाइयों के बाजार मूल्य के 60 प्रतिशत तक ऋण प्राप्त किया जा सकता है। इसके लिए म्यूचुअल फंड यूनिट्स बेचने की जरूरत नहीं है। वहीं लोन के लिए लंबा इंतजार नहीं करना पड़ता है। ज्यादातर बैंक और एनबीएफसी म्यूचुअल फंड पर कर्ज देते हैं।
* म्यूचुअल फंड पर लोन लेने के लिए आपको किसी बैंक या एनबीएफसी में म्यूचुअल फंड के बदले लोन के लिए अप्लाई करना होगा। बैंक या एनबीएफसी लोन देने से पहले आपके म्यूचुअल फंड की एक यूनिट गिरवी रखता है।
* आपको यूनिट की मार्केट वैल्यू के आधार पर लोन दिया जाता है। लोन देते समय जोखिम का भी ध्यान रखा जाता है।
* यदि आप म्यूचुअल फंड पर ऋण लेते हैं तो आपको इकाइयों को बेचने की आवश्यकता नहीं है। पैसे की जरूरत कम समय में पूरी हो जाती है। पैसिव म्यूचुअल फंड निवेश का फायदा मिलता है।
* चुकाया गया ब्याज लिक्विड फंड पर होने वाली कमाई से कम होगा। म्यूचुअल फंड पर लोन लेने पर आप पर ब्याज का बोझ काफी कम होगा।
* म्यूचुअल फंड पर लिए गए लोन पर ब्याज दर इंडिविजुअल लोन की तुलना में काफी कम होती है।
* म्यूचुअल फंड को लोन लेने पर 10-12 फीसदी की दर से ब्याज देना होगा। आपको लोन के लिए 0.5-0.75 फीसदी की दर से प्रोसेसिंग फीस भी देनी होगी।
* अगर आपने म्यूचुअल फंड पर लोन लिया है और आप लोन नहीं चुका पा रहे हैं तो बैंक आपकी यूनिट बेचकर आपके लोन की वसूली करेगा। यदि अतिरिक्त धन बचा है, तो यह आपको दिया जा सकता है।
* बैंक म्यूचुअल फंड बेचने से पहले इस संबंध में ग्राहक की अनुमति भी लेगा।
* अगर आप म्यूचुअल फंड पर लिए गए लोन को चुकाते हैं तो आपकी यूनिट्स गिरवी नहीं रखी जाएंगी।
* फंड हाउस से लोन चुकाने के बारे में बैंक या फाइनेंशियल कंपनी को पता चलते ही फंड हाउस उन यूनिट्स को रिलीज कर देगा।

इन बातों का रखें ध्यान
* म्यूचुअल फंड इकाइयों पर उधार लेना अन्य ऋणों की तुलना में आसान है।
* पैसों की भारी जरूरत होने पर ही लोन लेने की सलाह दी जाती है।
* इस पर बैंक 10-11 फीसदी की दर से ब्याज वसूलते हैं।
* अगर रिटर्न 8-10 फीसदी रहता है तो नुकसान हो सकता है।
* जब तक पैसा नहीं चुकाया जाता तब तक म्यूचुअल फंड नहीं बेचे जा सकते।

महत्वपूर्ण: अगर आपको यह लेख/समाचार पसंद आया हो तो इसे शेयर करना न भूलें और अगर आप भविष्य में इस तरह के लेख/समाचार पढ़ना चाहते हैं, तो कृपया नीचे दिए गए ‘फॉलो’ बटन को फॉलो करना न भूलें और महाराष्ट्रनामा की खबरें शेयर करें। शेयर बाजार में निवेश करने से पहले अपने वित्तीय सलाहकार से सलाह अवश्य लें। शेयर खरीदना/बेचना बाजार विशेषज्ञों की सलाह है। म्यूचुअल फंड और शेयर बाजार में निवेश जोखिम पर आधारित है। इसलिए, किसी भी वित्तीय नुकसान के लिए महाराष्ट्रनामा.कॉम जिम्मेदार नहीं होगा।

News Title: Loan against Mutual Funds Know Step By Step Process check details here on 13 December 2022.

अन्य

x
Maharashtranama

महाराष्ट्रनामा से पाएं ब्रेकिंग न्यूज अलर्ट्स.

लगातार पाएं दिनभर की बड़ी खबरें. आप Bell पर क्लिक करके सेटिंग मैनेज भी कर सकते हैं.

x

Notification Settings

Select categories to receive notifications you like.