Old Vs New Tax Regime | कौन सी कर प्रणाली SALARIED लोगो के लिए फायदेमंद है? देखें आपके सवालों के सभी जवाब

Old Vs New Tax Regime

Old Vs New Tax Regime | वित्त वर्ष 2023-24 की शुरुआत 1 अप्रैल 2023 से हो चुकी है। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा इस साल के बजट में आयकर प्रणाली से जुड़े नियमों में बदलाव की घोषणा के बाद से ज्यादातर नौकरीपेशा लोगों में उथल-पुथल मची हुई है। गैर-कर वर्ग में भ्रम की स्थिति है कि क्या पुरानी कर प्रणाली बरकरार है, नई कर प्रणाली में बदलाव का क्या मतलब है, और नई कर प्रणाली में ये बदलाव उनकी कर देयता पर कैसे प्रभाव डालेंगे या आसान हैं।

सीधे शब्दों में कहें तो लोगों को अभी भी नहीं पता कि आयकर नियमों में किए गए नए बदलावों से उन्हें कितना फायदा होगा। ऐसे में आज हम आपको न सिर्फ आपके सभी सवालों के जवाब बताने जा रहे हैं, बल्कि यह भी बताने जा रहे हैं कि नई दरों की वजह से नौकरीपेशा व्यक्ति कितनी बचत कर सकता है।

समझें नए टैक्स स्लैब को
* नए टैक्स स्लैब के मुताबिक अब 3 लाख रुपये तक की आय पर कोई टैक्स नहीं लगेगा।
* अगर आपकी सालाना आय 3-6 लाख तक है तो आपको इनकम पर 5 फीसदी टैक्स देना होगा।
* जिन करदाताओं की सालाना आय 6 से 9 लाख रुपये है, उन्हें 10% टैक्स देना होगा।
* जिनकी सालाना आय 9-12 लाख रुपये है, उन पर 15% टैक्स लगेगा।
* 12 से 15 लाख की सालाना आय वालों को 20 फीसदी की दर से टैक्स देना होगा।
* 15 लाख रुपये से अधिक की वार्षिक आय वालों को 30 प्रतिशत तक कर का भुगतान करना होगा।
* अगर आपकी सालाना आय 15.5 लाख रुपये तक है तो आपको 52,000 रुपये का फायदा होगा।

पुराना टैक्स स्लैब
2023-24 के बजट प्रस्ताव में ही केंद्र सरकार ने नई टैक्स व्यवस्था में टैक्स छूट बढ़ा दी है और अब यह सीमा बढ़ाकर 2 लाख रुपये कर दी गई है। इसका मतलब है कि अगर कोई करदाता नई कर व्यवस्था का विकल्प चुनता है तो उसे पांच लाख रुपये के बजाय सात लाख रुपये तक की वार्षिक आय पर कोई आयकर नहीं देना होगा। इसके साथ ही वेतनभोगी लोगों को इस साल से नई कर व्यवस्था में 50,000 रुपये की मानक कटौती का लाभ भी मिलेगा। इस प्रकार, यदि आपकी कुल वार्षिक आय 7.5 लाख रुपये है, तो वे एक नई कर व्यवस्था चुनकर कर-मुक्त होंगे।

पुरानी कर प्रणाली में आयकर से छूट के लिए वार्षिक आय सीमा केवल 5.50 लाख रुपये है। यदि करदाता पुरानी कर प्रणाली का विकल्प चुनता है और आयकर के विभिन्न वर्गों के तहत कटौती का लाभ उठाता है। और अगर टैक्सेबल इनकम को घटाकर 5.50 लाख रुपये कर दिया जाता है तो आपको एक रुपया भी टैक्स नहीं देना होगा। ध्यान दें कि इस साल के बजट में पुराने टैक्स सिस्टम में कोई बदलाव नहीं किया गया है।

पुराना टैक्स स्लैब बनाम नया टैक्स स्लैब
केंद्र सरकार ने नई कर व्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए चालू वर्ष के बजट में मानक कटौती का तोहफा जारी किया है। साथ ही टैक्स छूट की सीमा बढ़ाकर 2 लाख रुपये कर दी गई है और पुरानी टैक्स व्यवस्था ‘जस की तस’ है। क्या ऐसी स्थिति में नई कर व्यवस्था बेहतर है? ऐसा सवाल उठता है। जवाब आसान नहीं है। क्योंकि, पुरानी कर प्रणाली के तहत, 80 सी से, आयकर अधिनियम के विभिन्न प्रावधानों के तहत निवेश की राशि यह निर्धारित करेगी कि नई कर प्रणाली किसी विशेष करदाता के लिए उपयुक्त है या पुरानी।

आयकर अधिनियम के प्रावधान जो कर छूट प्रदान करते हैं, का अधिकतम सीमा तक उपयोग किया जाना चाहिए और पुरानी कर व्यवस्था नई कर व्यवस्था की तुलना में अधिक फायदेमंद होगी। अगर आपने होम लोन लिया है या बच्चों की स्कूल फीस भर रहे हैं, साथ ही कोई ऐसा व्यक्ति जिसके पास अपने बुजुर्ग माता-पिता के लिए अलग से हेल्थ इंश्योरेंस है, तभी उन्हें पुराने जमाने की व्यवस्था का ज्यादा लाभ मिलेगा।

अगर किसी की सालाना आय 7.50 लाख रुपये तक है। वह एक पैसा भी निवेश नहीं करता है। इसलिए फिलहाल उन पर कोई टैक्स देनदारी नहीं होगी। यदि ऐसे व्यक्ति नई कर व्यवस्था का विकल्प चुनते हैं, तो उन्हें आयकर का एक पैसा नहीं देना होगा।

ऐसे में एक बड़ा सवाल यह है कि नई कर प्रणाली का विकल्प चुना जाए या पुरानी व्यवस्था के साथ ही टिके रहें? अपनी आय, अपनी निवेश की आदतों और अपने खर्चों के आधार पर, आप उत्तर के आधार पर कर प्रणाली चुन सकते हैं। यदि आप आयकर अधिनियम के तहत विभिन्न कर बचत उपकरणों का उपयोग कर रहे हैं तो पुरानी प्रणाली निश्चित रूप से आपके लिए अच्छी है। हालांकि, नए टैक्स सिस्टम में आपको कोई फायदा नहीं मिलेगा। ऐसे में अगर आप अभी भी कन्फ्यूज हैं तो बेहतर होगा कि आप टैक्स कंसल्टेंट या फाइनेंशियल एडवाइजर की मदद लें।

महत्वपूर्ण: अगर आपको यह लेख/समाचार पसंद आया हो तो इसे शेयर करना न भूलें और अगर आप भविष्य में इस तरह के लेख/समाचार पढ़ना चाहते हैं, तो कृपया नीचे दिए गए ‘फॉलो’ बटन को फॉलो करना न भूलें और महाराष्ट्रनामा की खबरें शेयर करें। शेयर बाजार में निवेश करने से पहले अपने वित्तीय सलाहकार से सलाह अवश्य लें। शेयर खरीदना/बेचना बाजार विशेषज्ञों की सलाह है। म्यूचुअल फंड और शेयर बाजार में निवेश जोखिम पर आधारित है। इसलिए, किसी भी वित्तीय नुकसान के लिए महाराष्ट्रनामा.कॉम जिम्मेदार नहीं होगा।

News Title: Old Vs New Tax Regime details on 4 APRIL 2023.

अन्य

x
Maharashtranama

महाराष्ट्रनामा से पाएं ब्रेकिंग न्यूज अलर्ट्स.

लगातार पाएं दिनभर की बड़ी खबरें. आप Bell पर क्लिक करके सेटिंग मैनेज भी कर सकते हैं.

x

Notification Settings

Select categories to receive notifications you like.