Hindenburg Vs Adani Group | क्या हैं हिंडेनबर्ग के वो 88 सवाल, अडानी ग्रुप अब भी नहीं दे सकता जवाब

Hindenburg Vs Adani Group

Hindenburg Vs Adani Group | अडानी ग्रुप के शेयर पर उस वक्त बड़ा संकट आ गया जब हिंडेनबर्ग रिसर्च ने दुनिया के तीसरे सबसे अमीर गौतम अडानी और उनके साम्राज्य पर शेयरों में बदलाव का आरोप लगाया। हिंडनबर्ग रिसर्च ने अपनी रिपोर्ट में अडानी ग्रुप से 88 सवाल पूछे थे। गौरतलब है कि हिंडेनबर्ग अब तक कई कंपनियों का पर्दाफाश कर चुकी हैं और अडानी ग्रुप पर आई इस रिपोर्ट के बाद अडानी ग्रुप को 45,000 करोड़ रुपये का झटका लगा है। हिंडेनबर्ग रिसर्च रिपोर्ट के बाद अडानी ग्रुप के शेयर में काफी गिरावट आई। अडानी समूह के शेयर में शुक्रवार के सुबह के कारोबारी सत्र के दौरान भी बिकवाली जारी रही। गौरतलब है कि अडानी एंटरप्राइजेज का एफपीओ आज बाजरे में सब्सक्रिप्शन के लिए खुला है। इस बीच अडानी ग्रुप ने सभी आरोपों से इनकार किया है।

हिंडेनबर्ग के 88 सवाल?
अमेरिका में न्यूयॉर्क स्थित एक रिसर्च फर्म ने अडानी ग्रुप पर 88 सवाल पूछे। रिपोर्ट में अडानी समूह से पूछा गया है कि गौतम अडानी के छोटे भाई राजेश अडानी को समूह का एमडी क्यों बनाया गया। उन पर सीमा शुल्क कर चोरी, जाली आयात दस्तावेज और अवैध कोयला आयात के भी आरोप लगाए गए थे। इसके अलावा डायमंड ट्रेडिंग घोटाले में हिंडनबर्ग का नाम सामने आने के बाद भी अडानी के बहनोई समीरो वोहरा को अडानी ऑस्ट्रेलिया डिवीजन के कार्यकारी निदेशक का पद क्यों दिया गया? ऐसा सवाल रिसर्च एजेंसी ने अडानी ग्रुप से भी पूछा है।

आरोपों का खंडन
अडाणी समूह ने अपनी प्रमुख कंपनी के शेयर की बिक्री को बाधित करने के प्रयास में कोई विचार नहीं करने पर दंडात्मक कार्रवाई के लिए कानूनी विकल्पों पर विचार किया है। समूह के कानूनी मामलों के प्रमुख जतिन जलुंधावाला ने कहा, “हिंडेनबर्ग रिसर्च ने 24 जनवरी, 2023 को बिना किसी शोध और पूरी जानकारी के समूह के खिलाफ रिपोर्ट प्रकाशित की। इससे अडानी समूह, हमारे शेयरधारकों और निवेशकों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है। इस रिपोर्ट की वजह से भारतीय शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव बड़ी चिंता का विषय है।

शेयर में गिरावट
अडानी ग्रुप की कंपनियों के शेयरों में हफ्ते के आखिरी दिन भी भारी गिरावट देखने को मिल रही है। भारतीय बाजार खुलते ही अडानी ग्रुप के शेयरों में 19 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई। इस तरह अडानी ग्रुप की कंपनियों के शेयर लगातार दूसरे दिन पलटने लगे हैं। अडानी ट्रांसमिशन का शेयर खुलते ही 19 फीसदी गिर गया। जबकि अडानी पावर और अडानी विल्मर के शेयर 5 फीसदी तक निचले स्तर पर पहुंच गए।

कई कंपनियों के घोटाले उजागर
हिंडेनबर्ग रिसर्च की स्थापना 2017 में हुई थी और नाथन एंडरसन अनुसंधान एजेंसी के संस्थापक हैं। हिंडेनबर्ग अब तक कई कंपनियों का भंडाफोड़ कर चुका है। 6 मई, 1937 को अमेरिका के न्यू जर्सी के मैनचेस्टर टाउनशिप में हिंडनबर्ग एयरलाइंस का एक प्रसिद्ध विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। कंपनी का नाम इस हिंडनबर्ग के नाम पर रखा गया था। हिंडेनबर्ग रिसर्च किसी भी कंपनी में होने वाली गड़बड़ी की पड़ताल करता है और फिर एक रिपोर्ट प्रकाशित करता है। यह एक फोरेंसिक आर्थिक अनुसंधान संस्थान है जो इक्विटी, क्रेडिट और डेरिवेटिव का विश्लेषण करता है।

महत्वपूर्ण: अगर आपको यह लेख/समाचार पसंद आया हो तो इसे शेयर करना न भूलें और अगर आप भविष्य में इस तरह के लेख/समाचार पढ़ना चाहते हैं, तो कृपया नीचे दिए गए ‘फॉलो’ बटन को फॉलो करना न भूलें और महाराष्ट्रनामा की खबरें शेयर करें। शेयर बाजार में निवेश करने से पहले अपने वित्तीय सलाहकार से सलाह अवश्य लें। शेयर खरीदना/बेचना बाजार विशेषज्ञों की सलाह है। म्यूचुअल फंड और शेयर बाजार में निवेश जोखिम पर आधारित है। इसलिए, किसी भी वित्तीय नुकसान के लिए महाराष्ट्रनामा.कॉम जिम्मेदार नहीं होगा।

News Title: Hindenburg Vs Adani Group research details here on 28 January 2023

अन्य

x
Maharashtranama

महाराष्ट्रनामा से पाएं ब्रेकिंग न्यूज अलर्ट्स.

लगातार पाएं दिनभर की बड़ी खबरें. आप Bell पर क्लिक करके सेटिंग मैनेज भी कर सकते हैं.

x

Notification Settings

Select categories to receive notifications you like.