Third Party Insurance | थर्ड पार्टी इन्शुरन्स का मतलब क्या है? इसके फायदे क्या है? जाने विस्तार में

Third Party Insurance

Third Party Insurance | कोई भी नया वाहन खरीदने के बाद थर्ड पार्टी इंश्योरेंस लेना बहुत जरूरी है। 2018 से, सभी नई बाइक की खरीद के साथ, उन्हें 5 साल के लिए थर्ड पार्टी बीमा और 3 साल के लिए कार खरीदने पर अनिवार्य किया गया है।

लेकिन थर्ड पार्टी इन्शुरन्स क्या है और यह इतना महत्वपूर्ण क्यों है? लाभ क्या है? बहुत से लोग अभी भी यह नहीं जानते हैं की थर्ड पार्टी इन्शुरन्स मालिक की सुरक्षा से संबंधित नहीं है, तो आइए जानें कि यह इतना महत्वपूर्ण क्यों है।

Third Party Insurance का मतलब क्या है?
सबसे पहले नया वाहन खरीदते समय उसके मालिक को थर्ड पार्टी इंश्योरेंस लेना जरूरी होता है। हालांकि वाहन मालिक को सुरक्षा प्रदान नहीं करता है, लेकिन किसी भी सड़क दुर्घटना में उस वाहन से घायल व्यक्ति को बीमा कवर मिलता है।

यह बीमा किसी थर्ड पार्टी से संबंधित है, इसलिए इसे लायबिलीटी कव्हर भी कहा जाता है। इस बीमा को अनिवार्य करने के पीछे भी एक बड़ा कारण है।

दरअसल, एक साल बाद अपने वाहन का बीमा कराने में आनाकानी करने वालों की संख्या काफी ज्यादा है, इसलिए इस सभी को ध्यान में रखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने पांच साल के लिए थर्ड पार्टी इंश्योरेंस अनिवार्य कर दिया है।

वित्तीय नुकसान से बचाने के लिए प्रभावी
भले ही यह वाहन मालिक के लिए किसी काम का न हो, लेकिन आप सोच रहे होंगे कि थर्ड पार्टी इंश्योरेंस लेने का क्या फायदा है? जानकारी के लिए बता दें कि थर्ड पार्टी इंश्योरेंस वाहन मालिक को बीमा कवर नहीं देता है, लेकिन यह उनके लिए बहुत उपयोगी है।

यह बीमा बीमाधारक को सभी वाहन दुर्घटनाओं के कारण होने वाले वित्तीय नुकसान से बचाने का काम करता है। इसमें दुर्घटना के बाद अस्पताल का खर्च या अन्य कानूनी कार्य लागत शामिल है। इन सभी पर बीमा कंपनी का दावा किया जाता है।

समझें कि Third Party Insurance का क्या मतलब है?
थर्ड पार्टी इंश्योरेंस के तहत वाहन दुर्घटना में शामिल व्यक्ति को शारीरिक नुकसान पहुंचने की स्थिति में नुकसान का भुगतान बीमा कंपनी द्वारा किया जाता है। इसके अलावा, बीमा कंपनी तीसरे पक्ष के बीमा के तहत परिसंपत्तियों के लिए क्षतिपूर्ति का भुगतान भी करती है।

यहां आपको ध्यान देना होगा कि थर्ड पार्टी इंश्योरेंस के तहत इंश्योरेंस कंपनी सिर्फ दुर्घटना से होने वाले वित्तीय नुकसान की भरपाई करती है। बीमा कंपनी किसी तीसरे पक्ष को दावा करती है। यहां पहला पक्ष चालक है और तीसरा पक्ष वह है जो वाहन की चपेट में आ गया है।

वित्तीय नुकसान का क्लेम बिमा कंपनी देती है
* किसी अन्य व्यक्ति के वाहन को नुकसान के लिए मुआवजा
* किसी अन्य व्यक्ति की गाड़ी के लिए मुआवजा
* गंभीर शारीरिक नुकसान या किसी अन्य व्यक्ति की मृत्यु के लिए मुआवजा
* दुर्घटना से संबंधित कानूनी या न्यायिक कार्यवाही

यह नुकसान इस बीमा द्वारा कवर नहीं किया जाता है
* आपके वाहन को नुकसान के लिए मुआवजा
* चोरी हुए वाहन के लिए कोई मुआवजा नहीं
* वाहन मालिक को शारीरिक नुकसान

थर्ड पार्टी बीमा नहीं होने पर जुर्माना
दिलचस्प बात यह है कि दुर्घटना से होने वाले नुकसान की भरपाई में थर्ड पार्टी बीमा महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। थर्ड पार्टी इंश्योरेंस के बिना गाड़ी चलाते पकड़े जाने वालों पर 2,000 रुपये तक का जुर्माना या तीन महीने तक की जेल हो सकती है।

दूसरी ओर, एक ड्राइवर द्वारा बार-बार लापरवाही करने पर एक ही समय में दोनों दंड हो सकते हैं।

महत्वपूर्ण : अगर आपको यह लेख/समाचार पसंद आया हो तो इसे शेयर करना न भूलें और अगर आप भविष्य में इस तरह के लेख/समाचार पढ़ना चाहते हैं, तो कृपया नीचे दिए गए ‘फॉलो’ बटन को फॉलो करना न भूलें और महाराष्ट्रनामा की खबरें शेयर करें। शेयर बाजार में निवेश करने से पहले अपने वित्तीय सलाहकार से सलाह अवश्य लें। शेयर खरीदना बेचना बाजार विशेषज्ञों की सलाह है। म्यूचुअल फंड और शेयर बाजार में निवेश जोखिम पर आधारित है। इसलिए, किसी भी वित्तीय नुकसान के लिए महाराष्ट्रनामा.कॉम जिम्मेदार नहीं होगा।

News Title : Third Party Insurance Know Details as on 15 May 2023

अन्य

x
Maharashtranama

महाराष्ट्रनामा से पाएं ब्रेकिंग न्यूज अलर्ट्स.

लगातार पाएं दिनभर की बड़ी खबरें. आप Bell पर क्लिक करके सेटिंग मैनेज भी कर सकते हैं.

x

Notification Settings

Select categories to receive notifications you like.